Friday, April 16, 2010

नदी रूकती नहीं ......

जब भी ज़िन्दगी की बल खाती राह के बारे में सोचा , हर बार एक नदी का ख्याल आया !
कई बार लगा कि हर मोड़ पे मंज़र बदल जाना , नए नए मोड़ आना , रुक जाना फिर चल पड़ना ,
बिलकुल एक नदी की तरह !
कभी तेज़ बहाव , कभी ठहराव ,
कभी पत्थरों के बीच से राह बनाना , और कभी गहरी खायी में गुम हो जाना ,
फिर से निकल आना एक नए रास्ते की ओर , फिर चल पड़ना !!
रुकने की कोई राह ही नहीं , जहाँ रुकी वहीँ पानी गन्दला जाना ,
जैसे दिल्ली की जमुना , जिसका कोई पता नहीं किधर से आना है किधर को जाना !!
बस यहीं पहुँच कर लगा कि रुकना नहीं है ,
पत्थरों के बीच रास्ता होगा तो सही ,
पत्थर कब रोक पाए हैं नदी का बहाव , दिशा तो बदल सकते हैं ये ,
बहाव रोक देने की ताकत उनमे है ही नहीं !!

अपनत्व के ब्लॉग पर हिंदी कविता पढ़ती थी तो हर बार हिंदी में लिखने कि इच्छा होती थी , अच्छा न सही सच्चा है जो भी लिखा है मैंने !!
बहुत उत्सुकता रहेगी ये जानने की कि कैसा लगा आप सब को !


बहुत बार नदी के बारे में सोचा और लिखने बैठी तो एक बार में ही इतना निकल आया , थोडा और पढ़िए......

नदी जब निकलती है पहाड़ो के बीच से ,
कितना वेग , कितना साहस , कितना विश्वास ,
जैसे कोई फ़िक्र नहीं , बस दौड़ते जाना है ,
अपनी मंजिल की ओर ,
मंजिल भी वो , जिसका कोई पता नहीं !
मैदानों में आ कर कैसे गंभीर हो जाती है वो ,
जैसे सब कुछ जान लिया है , अनुभव पा लिए हैं ज़िन्दगी के ,
और अपने किनारों को समृद्ध कर जाती है वो ,
अपने अनुभव बांटती जाती है ,
पर वेग कम और कम होता जाता है ,
जैसे जैसे गहराई बढती है , पानी बढ़ता है ,
नदी की ताकत बढती है ,
पर उसका वेग कम हो जाता है ,
जैसे उसे समझ आ गयी हो ,
गंभीरता और धीरता आ गयी हो !
पर आगे तो बढ़ना है उसे ,
धीरे धीरे शायद उसका पानी बंट जाए ,
धाराएँ बिखर जाए , और सागर तक न पहुच पायें ,
फिर भी नदी अपने किनारों को दे जाती है वो पहचान ,
अपने होने के वो अमिट निशान ,
कि सब उसे देखने पहुँच ही जाते हैं ,
चाहे वो गंगोत्री हो या फिर सुंदरवन
या फिर केरल के backwaters आलीशान !!
बस दिल्ली की जमुना ही नहीं देखने जाता कोई ,
गला जो घोंट दिया है उसका इस शहर ने!!

34 comments:

  1. bahut sunder abhivykti...........likhane ka krum jaree rakhana................
    ye din mujhe hamesha yad rahega aaj meree bitiya ka bhee janmdin hai....pahala prayas kaun yakeen karega ?bahut accha laga............aur aate hee chakka laga diya..........:)

    ReplyDelete
  2. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट ।

    नदी
    जन्मी पूरी सदी ।

    ReplyDelete
  5. संगीता जी, नदी को लेकर कविता के रूप में बहुत सुंदर अभिव्यक्ति देखने/पढ़ने को मिली। बधाई !

    ReplyDelete
  6. Kabhi-kabhi nadiya bahut dard bhi deti hai!
    Kaise? Pdhiye:
    Nadiya: Mukkamal Muhabbat, Adhoori Wafa!
    Achhi abhivyakti aur ek aham mudda!
    Saadhuwaad!

    ReplyDelete
  7. Are Wah! Aapne bahut sundar likha hai..

    ReplyDelete
  8. mai us nadi ko to nahi dekh paa raha hoon per saayad usme chupe us insaan ko mahsus kar raha hoon jiski shakl or dasa mujhse kaphi milti julti hai. aaj carrier ke success per khade hone ke baat bhi zindagi me jo sunyata mahsus kar raha hoon. us sunyata ko jaise kisi ne khubsurat dhang se varnit kar diya ho. padh kar accha laga or aisa laga ki kisi ne mujhe chu liya ho. aapko ek utkrith kavita ke liye badhai or dhanyawaad.

    ReplyDelete
  9. Touching poetry Sangeeta.River's perseverance beautifully expressed.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर कविता है ! आपने एक नदी के जीवन का सही चित्रण किया है और नदी को जीवन से तुलना करके बहुत सुन्दर कविता प्रस्तुत किया है ! बधाई !

    ReplyDelete
  11. "बस दिल्ली की जमुना ही नहीं देखने जाता कोई ,
    गला जो घोंट दिया है उसका इस शहर ने!!"
    सच्ची भी है और अच्छी भी - भावों और संदेशों को संजोये सुंदर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  12. beautiful expressions,really impressed me.Pl keep writing and enjoy.with best wishes,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. Sangeeta G, well written.... U can visit my blog for this type of Poem on Nadi...

    http://kamleshpro.blogspot.com/2009/08/blog-post.html

    ReplyDelete
  14. Sangeeta G, well written.... U can visit my blog for this type of Poem on Nadi...

    http://kamleshpro.blogspot.com/2009/08/blog-post.html

    ReplyDelete
  15. बस दिल्ली की जमुना ही नहीं देखने जाता कोई ,
    गला जो घोंट दिया है उसका इस शहर ने!!

    -वाकई, दिल्ली की जमुना तो गुम गई है..कोई काश उसे बचाता!!

    बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  16. dil ko chhooti huyi bahut sundar kavita.
    aap achha likhti hain
    -
    -
    aapke blog pe aana sukhad raha
    shubh kamnayen

    ReplyDelete
  17. बस दिल्ली की जमुना ही नहीं देखने जाता कोई ,
    गला जो घोंट दिया है उसका इस शहर ने!!
    अति सुन्दर , कमाल का लिखा है

    ReplyDelete
  18. kyaa baat...kyaa baat....kyaa baat....lazawaab...

    ReplyDelete
  19. bahut khoob likhte rahen....

    Jai Ho Mangalmay ho

    ReplyDelete
  20. बहुत बड़ी बात आप ने सरल भाषा में कह दी.........बधाई....

    ReplyDelete
  21. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  22. I must say Sangeeta it's a wonderful description of journey of life ...parallel comparison of life and river .. Life is a journey not a destination ...Very well done .I didn't know that u r a poetess too, keep it up .

    ReplyDelete
  23. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  24. Very beautifully and well explained words !! In can sense the depths of the words !!Great post !! Keep them cuming !!

    ReplyDelete
  25. wonderful expression!!...I keep coming back to read this poem again and again... I totally agree with Apnatva that it is difficult to believe that this is your first attempt at Hindi poetry....Kudos and do keep writing.

    ReplyDelete
  26. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete
  27. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete
  28. Dear Sangeeta
    Very well expressed , I liked the poem ...so apart from cooking , u write poems too...great !!!
    Have a nice day

    ReplyDelete
  29. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  30. sandeeta itne protsahan ke baad bhee .............
    kabhee kabhee likha karo.........
    kaisee ho?

    take care......

    ReplyDelete
  31. Loved it. Absolutely true too. (I wish we had the option of typing in Hindi here)

    Poetry is such a powerful medium for expressing emotions that prose finds difficult to deal with. My favorite lines from a Hindi text book, in class X I think,
    "Yeh Janam hua kis arth aho
    Samjho jisne yeh vyarth naa ho"

    ReplyDelete